Home / Numerology and Palmistry / Life Line : जीवन रेखा
Life Line : जीवन रेखा
Numerology and Palmistry / By Dr. Deepak Sharma
क्या कहती है आपकी हथेली की जीवन रेखा ( what say Life Line of your hand )
Life Line / जीवन रेखा मनुष्य के जीवनी शक्ति, उसकी परिश्रम की शक्ति के सामर्थ्य तथा उसकी सीमा के अतिरिक्त जीवन में घटी अच्छी या बुरी घटनाओं, जीवन में आने वाली बाधाओं और बाधाओं की आशंकाओ के साथ साथ शरीर में गुप्त रूप से पनप रहे रोग विशेष का ज्ञान कराती है विशेषतः लिवर, गले, फेफड़े, मूत्राशय से सम्बंधित रोग का।
जीवन रेखा को सामुद्रिक शास्त्र में पितृ रेखा के नाम से जाना जाता है। इसे आयु रेखा अथवा कुल रेखा भी कहा जाता है। अंग्रेजी में इसे लाइफ लाइन या वाइटल लाइन के नाम से जाना जाता है। हाथ की रेखाओं से हम सहज ही जीवन में होने वाली घटनाओं का पता लगा सकते है। हमारी हथेली में स्पष्ट रूप से दिखाई देने वाली चार रेखाओ में जीवन रेखा का महत्त्वपूर्ण स्थान है।
Life Line / जीवन रेखा कहाँ से आरम्भ होती है ?
जीवन रेखा का उद्गम तर्जनी एवं अंगूठे के मध्य से होता है या यह कह सकते है की जीवन रेखा गुरु पर्वत के नीचे से तथा मंगल पर्वत के ऊपर से निकलता है। जीवन रेखा यहाँ से निकलकर शुक्र पर्वत को घेरती हुई मणिबंध के पास तक जाती है। मनुष्य के जीवन के लिए यह रेखा बहुत ही महत्वपूर्ण रेखा है कहा जाता है की यदि जीवन है तो सब कुछ है अन्यथा कुछ भी नहीं।
कैसी होनी चाहिए आपकी Life Line / जीवन रेखा
जो रेखा स्पष्ट गहरी, बिना किसी अवरोध के हो तथा उसका रंग त्वचा के रंग से गहरे लाल रंग के समान हो वही रेखा अच्छी रेखा मानी जाती है।जीवन रेखा तभी उत्तम मानी जाती है यदि उसे अन्य रेखा न काटती हो तथा वह लम्बी हो इसका अर्थ है कि व्यक्ति की आयु लम्बी होगी और उसका अधिकतर जीवन सुखपूर्वक बीतेगा। आप अपने हाथ खोलकर यह देख सकते है आपके जीवन रेखा स्पष्ट है अथवा नहीं और यदि कही रुकावट या रेखा में टूट है तो समझे की जीवन के उस वर्ष में कोई परेशानी आ सकती है। रेखा छोटी तथा कटी होने पर आयु कम एवं जीवन संघर्षमय होगा ।
Life Line / जीवन रेखा किससे प्रभावित होती है
जीवन रेखा गुरु तथा मंगल क्षेत्र के प्रभाव के साथ शुक्र क्षेत्र से विशेषतः प्रभावित होती है। गुरु (Jupiter ) क्षेत्र जहाँ ज्ञान तथा न्याय से व्यक्ति को जाोड़ता है तो मंगल (Mars) क्षेत्र का प्रभाव व्यक्ति में साहस और उत्साह भरता है। वही शुक्र (Venus) क्षेत्र का प्रभाव व्यक्ति में काम वासना विषयभोग, कला के प्रति प्रेम, सौंदर्यप्रियता, भौतिकता, अभिनय जीवन जीने के प्रति उत्साह का सृष्टि करता है।
अपनी हथेली में देखें आपका जीवन रेखा कैसा है ?
आप अपने हथेली को खोल लें और तर्जनी तथा अंगूठे के बीच से निकलने वाली वह रेखा जो अंगूठे से ज्यादा नजदीक से निकल रही है को देखे की कहा जा रही है सामान्यतः यह रेखा शुक्र पर्वत को घेरते हुए मणिबंध तक जाती है अब सबसे पहले देखना यह है की यह रेखा कैसा है यदि स्पष्ट गहरी काम चौड़ी तथा लालिमा लिए हुए है तो यह रेखा आपके अच्छे स्वास्थ्य, लम्बी आयु वा पूर्णायु , जीवन के प्रति उत्साह, प्रसन्न चित्त तथा साहस को दर्शाता है और यदि यह रेखा अस्पष्ट है धुंधली है, कमजोर है, टुटा-फूटा है या अन्य कई रेखाएं आकर मिल रही है तो यह मध्यायु, अस्वस्थता, पेट सम्बन्धी परेशानी तथा पारिवारिक परेशानी की सूचना देती है अतः अपने आप में तुरंत सुधार करने के उपाय सोचनी शुरू कर देनी चाहिए।
जीवन रेखा के सम्बन्ध में महत्त्वपूर्ण बातें
Previous PostNext Post
Related Posts
Ear – कान के बनावट से जानें अपना भविष्य
Numerology and Palmistry / By Dr. Deepak Sharma
Ear – कान के बनावट से जानें अपना भविष्य (Know your Future through Ear) क्या आपने कभी यह सोचा है कि आपके कान की बनावट आपके अपने…
Fate Line | Bhagy Rekha | जानें क्या कहती है आपकी भाग्य रेखा
Numerology and Palmistry / By Dr. Deepak Sharma
Fate Line | Bhagy Rekha | जानें क्या कहती है आपकी भाग्य रेखा ।  भाग्य रेखा आपके हाँथ के कलाई व मणिबंध से आरंभ होती…
What’s Numerology | अंकशास्त्र | अंकज्योतिष | अंक विज्ञान
Numerology and Palmistry / By Dr. Deepak Sharma
What’s Numerology | अंकशास्त्र | अंकज्योतिष | अंक विज्ञान । अंकशास्त्र अंको का विज्ञानं है। अंक ज्योतिष (Numerology)  भविष्य जानने की एक विधा है। अंक के…
Mulank Bhagyank in Numerology | अंकशास्त्र में मूलांक भाग्यांक जानने की विधि
Numerology and Palmistry / By Dr. Deepak Sharma
Mulank Bhagyank in Numerology | अंकशास्त्र में मूलांक भाग्यांक जानने की विधि व्यक्ति का अंको से सम्बन्ध जन्म से लेकर मृत्युपर्यन्त तक बना रहता है…
1 thought on “Life Line : जीवन रेखा”
SHRUTI
24/04/2017 AT 4:22 PM
ye sab bakwass hota h kuch nahi hota ye sab
Reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *
         
Copyright © 2022Astroyantra | Powered by Cyphen Innovations